Monday, 31 May 2021

9 Planets Lal kitab Remedy | नौ ग्रहों के सटीक उपाय

Master remedies For all 9 planets as per lal kitab: Surya, Moon, Mangal, Budh, Guru, Shukra, Rahu, ketu, 9 Planets upaye, read below article for 9 Planet Remedies

नौ ग्रहों के 12 घरों के उपाय  नीचे पढिये

 सभी 9 ग्रहों का एक ही उपाय: यहां हम आपको सभी 9 ग्रहों (अर्थात सूर्य, चंद्रमा, मंगल, बुध, बृहस्पति, शुक्र, शनि, राहु और केतु) के लिए लाल किताब के उपाय प्रस्तुत करेंगे, जो कुंडली के पहले घर से 12वें घर में संबंधित घरों में उनकी स्थिति के अनुसार हैं। लाल किताब कुछ अलग तरह का ज्योतिष है, जिसकी भविष्यवाणी की अपनी समझ है। यदि आपने अब तक पारंपरिक वैदिक ज्योतिष का अध्ययन किया है, तो उपचारात्मक उपायों के साथ भ्रमित होने की संभावना अधिक है। एक अकादमिक अर्थ के रूप में, मैं इस विषय को होम्योपैथी के साथ टैग कर सकता हूं, जहां रोगी के लक्षण ज्योतिषीय उपचार के साथ महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

लाल किताब मानती है कि सभी ग्रह "काल पुरुष" में अपनी स्थिति रखते हैं। काल पुरुष ज्योतिष के लिए आदर्श जातक है, जैसे वास्तु पुरुष वास्तु संरचना के लिए आदर्श देवता है। हरे कुछ लाल किताब सूत्र हैं जो कुंडली में ग्रह की स्थिति, जातक के जीवन पर उनके प्रभाव और उसी के उपाय के बारे में बताते हैं।


सूर्य के लिए लाल किताब के उपाय


प्रथम भाव में सूर्य (सूर्य खाना नंबर 1)

जातक को कम उम्र में ही शादी कर लेनी चाहिए। अगर वह जनता के लिए पीने के पानी (प्याऊ) के लिए जगह बनाता है तो उसे अच्छे परिणाम मिलेंगे।


दूसरे भाव में सूर्य (सूर्य खाना नंबर 2)

जातक को गेहूँ या बाजरा जैसे अनाज किसी से नहीं लेने चाहिए। शनिवार के दिन नारियल, बादाम और सरसों के तेल का दान करें। किसी से भी उपहार के रूप में दूध, चांदी, चावल या सफेद कपड़ा न लें।


तीसरे भाव में  सूर्य उपाय    (सूर्य खाना नंबर 3)

जातक को अपना चरित्र निष्पक्ष रखना चाहिए। उन्हें गरीब बच्चों को भोजन और वस्त्र दान करके उनकी देखभाल करनी चाहिए। माँ और दादी माँ का आशीर्वाद लें।


चतुर्थ भाव में सूर्य (सूर्य खाना नंबर 4)

जातक को नेत्रहीन लोगों की भलाई के लिए दान देना चाहिए। सिर्फ पैसा ही नहीं बल्कि जातक को भी उन्हें खुद खाना परोसना चाहिए। उसे मांस और शराब से दूर रहना चाहिए।


पंचम भाव में सूर्य (सूर्य खाना नंबर 5)

जातक को लाल मुखी बंदरों को भोजन दान करना चाहिए। किसी के बारे में बुरा मत बोलो। झूठ मत बोलो।


छठे भाव में सूर्य (सूर्य खाना नंबर 6)

जातक को लाल मुखी बंदरों को चना और गुड़ का दान करना चाहिए। घर में पूजा के स्थान पर गंगाजल रखें। रात को सोते समय पानी सिर के पास रखें।


सप्तम भाव में सूर्य (सूर्य खाना नंबर 7)

जातक को ब्राह्मणों या काले या गहरे भूरे रंग की गायों को दान के माध्यम से या शारीरिक रूप से उनकी मदद करनी चाहिए। तांबे के सात चौकोर टुकड़े पृथ्वी के अंदर गाड़ दें। पानी पीने के बाद कोई भी काम शुरू करें।


आठवें घर में सूर्य (सूर्य खाना नंबर 8)

जातक को 8 दिन तक 8 किलो गुड़ और 8 किलो गेहूं मंदिर में दान करना चाहिए। सफेद गाय की सेवा करें। घर का प्रवेश द्वार दक्षिण दिशा में न रखें।


नवम भाव में सूर्य (सूर्य खाना नंबर 9)

जातक को हमेशा चावल, दूध, पानी और चांदी जितना हो सके स्टोर करके रखना चाहिए। और इसे कभी भी किसी को दान नहीं करना चाहिए। हालांकि वह इन वस्तुओं को दूसरों से उपहार के रूप में ले सकता है।


दशम भाव में सूर्य (सूर्य खाना नंबर 10)

जातक को काले या नीले रंग के कपड़े नहीं पहनने चाहिए। इसकी जगह सफेद या लाल रंग के कपड़े पहनें। बहते पानी में तांबे के गोल सिक्के के 10 टुकड़े दें।


ग्यारहवें भाव में सूर्य (सूर्य खाना नंबर 11)

जातक को कसाई से एक बकरी खरीदनी चाहिए और उसे वहीं छोड़ देना चाहिए जहां वह सुरक्षित रह सके। जातक को मांस या शराब का सेवन नहीं करना चाहिए।


बारहवें घर में सूर्य (सूर्य खाना नंबर 12)

जातक को बंदरों को गुड़ और चना अर्पित करना चाहिए। उन्हें अर्घ्य देकर सूर्य को अर्घ्य देना चाहिए। उसे ऐसे घर में रहना चाहिए जिसमें बहुत सारी प्राकृतिक रोशनी और वेंटिलेशन हो।


चंद्रमा के लिए लाल किताब के उपाय


प्रथम भाव में चंद्रमा (चंद्रमा खाना नंबर 1)

जातक को प्रतिदिन बरगद के पेड़ को जल देना चाहिए। पलंग के चारों टांगों में तांबे की कीलें लगाएं। यात्रा के दौरान यदि संभव हो तो तांबे के सिक्के को बहते पानी में फेंक दें।


दूसरे भाव में चंद्रमा (चंद्रमा खाना नंबर 2)

जातक को अपनी मां से उपहार के रूप में चावल और चांदी लेकर सफेद कपड़े में लपेट कर सुरक्षित रखना चाहिए। उसे घर का निर्माण करते समय चांदी की ईंट को घर की नींव में गाड़ देना चाहिए।


तीसरे भाव में चंद्रमा (चंद्रमा खाना नंबर 3)

यदि परिवार में बेटी या बहन का जन्म हो तो जातक को चावल, दूध और चांदी का और परिवार में भाई या पुत्र का जन्म होने पर गेहूं, बाजरा, गुड़, सोना दान करना चाहिए। शुभ फल के लिए उसे घोड़ा या तीतर रखना चाहिए। उन्हें देवी दुर्गा की पूजा करनी चाहिए।


चतुर्थ भाव में चंद्रमा (चंद्रमा खाना नंबर 4)

जातक को कभी भी दूध नहीं बेचना चाहिए। इसके बजाय उसे उपहार के रूप में दूध देना चाहिए, खासकर मां या परिवार की अन्य महिलाओं को।


पंचम भाव में चंद्रमा (चंद्रमा खाना नंबर 5)

जातक को सोमवार के दिन सफेद कपड़े में लपेटकर चावल और चीनी के टुकड़े प्रवाहित करना चाहिए।


छठे भाव में चंद्रमा (चंद्रमा खाना नंबर 6)

जातक को अपने माता-पिता की सेवा हृदय से करनी चाहिए। उसे मंदिर में गुड़, बाजरा, सोना, तांबा, लाल कपड़ा, पीला कपड़ा, धार्मिक पुस्तकें, छाता दान करना चाहिए। दूध सिर्फ दिन में पीना चाहिए, रात में नहीं। दूध का दान नहीं करना चाहिए।


सातवें घर में चंद्रमा (चंद्रमा खाना नंबर 7)

जातक को चांदी और मोती धारण करना चाहिए। उसे 24 साल की उम्र के बाद ही शादी करनी चाहिए न कि उससे पहले। उन्हें हमेशा दैनिक प्रार्थना करके भगवान शिव को प्रसन्न करना चाहिए।


आठवें घर में चंद्रमा (चंद्रमा खाना नंबर 8)

जातक को चाहिए कि वह माता से चावल और चाँदी लेकर एक डिब्बे में सुरक्षित रखे, खासकर चांदी के डिब्बे में। जातक को स्वयं अपने पैर धोकर बड़ों और बच्चों की सेवा करनी चाहिए। दूध से भरी बोतल को सुनसान जगह पर गाड़ देना चाहिए।

नवम भाव में चंद्रमा (चंद्रमा खाना नंबर 9)

जातक को प्रतिदिन मंदिर जाना चाहिए और नियमित भुगतानकर्ता करना चाहिए। और अपने चरित्र को निष्पक्ष और दोषों से मुक्त रखना चाहिए।

दसवें घर में चंद्रमा (चंद्रमा खाना नंबर 10)

जातक को रात्रि में दूध नहीं पीना चाहिए। शिक्षकों का सम्मान और सेवा करनी चाहिए। ब्राह्मणों को केला, क्रीम रंग के कपड़े, धार्मिक पुस्तकें अर्पित करनी चाहिए।

ग्यारहवें भाव में चंद्रमा (चंद्रमा खाना नंबर 11)

जातक को चांदी की अंगूठी में मोती धारण करना चाहिए। उन्हें 11 बच्चों को पेड़ा (दूध से बना भारतीय मीठा व्यंजन) देना चाहिए। उन्हें काली मंदिर में 11 लोगों (प्रत्येक व्यक्ति को 1 किलो) को 11 किलो दूध दान करना चाहिए।

बारहवें भाव में चंद्रमा (चंद्रमा खाना नंबर 12)

जातक को केवल छना हुआ पानी ही पीना चाहिए और कभी भी ऐसे पानी का सेवन नहीं करना चाहिए जो साफ न हो। बारिश के पानी को चांदी के बर्तन में स्टोर करके रखें।



मंगल ग्रह के लिए लाल किताब के उपाय

प्रथम भाव में मंगल (मंगल खाना नंबर 1)

मंगल को शांत करने के लिए जातक को सूर्य और चंद्रमा से संबंधित लेखों की सहायता लेनी चाहिए। यदि बृहस्पति नवम या एकादश भाव में हो तो बृहस्पति से संबंधित लेख सहायक होंगे। और यदि शुक्र सप्तम भाव में हो तो शुक्र से संबंधित लेख जातक की मदद करेंगे।

दूसरे भाव में मंगल (मंगल खाना नंबर 2)

जातक को जल में रेवड़ी प्रवाहित करनी चाहिए। उसे आदर्श रूप से बिजली से संबंधित कार्य करना चाहिए। उसे भाइयों के साथ अच्छे संबंध रखने चाहिए जिससे उसे धनवान बने रहने में मदद मिलेगी। उसे अपने घर में हिरण की खाल रखनी चाहिए।

तीसरे भाव में मंगल (मंगल खाना नंबर 3)

जातक को अपने घर में हाथी के दांत से बनी वस्तुएं रखनी चाहिए। उसे सफेद वस्त्र धारण करने चाहिए। उन्हें अपने बाएं हाथ में चांदी की अंगूठी पहननी चाहिए।

चतुर्थ भाव में मंगल (मंगल खाना नंबर 4)

जातक को चार किलो चावल दूध से धोकर गंगा जैसी पवित्र नदी में प्रवाहित करना चाहिए। इससे जातक के कष्ट दूर होंगे। उसे तीन धातुओं के संयोजन से बनी अंगूठी पहननी चाहिए अर्थात। सोना, चांदी, तांबा।

पंचम भाव में मंगल (मंगल खाना नंबर 5)

जातक को सोते समय अपने सिर के पास पानी रखना चाहिए और अगली सुबह उसे एक पौधे को अर्पित करना चाहिए या फिर खुद पीना चाहिए। उन्हें अपने घर में नीम का पौधा लगाना चाहिए।

छठे भाव में मंगल (मंगल खाना नंबर 6)

मंगल ग्रह की बुराई को खत्म करने के लिए जातक को छोटी कन्याओं की पूजा करनी चाहिए। उसे चांदी और चावल का दान करना चाहिए।

सप्तम भाव में मंगल (मंगल खाना नंबर 7)

जातक को अपनी जेब में चांदी की एक ठोस गेंद रखनी चाहिए। उसे अपनी मौसी, बहन या भाभी को मिठाई खिलानी चाहिए। लेकिन उन्हें उपहार के रूप में भी उन्हें कभी कपड़े नहीं देने चाहिए। उसे घर या दीवार बनाकर अपने शनि को मजबूत करने का प्रयास करना चाहिए। उसे अपने घर में कभी भी पर्वतारोही के पौधे नहीं लगाने चाहिए।

आठवें घर में मंगल (मंगल खाना नंबर 8)

जातक को तीन धातुओं के मेल से बनी अंगूठी पहननी चाहिए। सोना, चांदी और तांबा। उन्हें कुत्तों को तंदूरी रोटियां देनी चाहिए।

नवम भाव में मंगल (मंगल खाना नंबर 9)

जातक को अपनी जेब में लाल रुमाल रखना चाहिए। उन्हें हर मंगलवार को भगवान हनुमान के मंदिर जाना चाहिए और उन्हें चोल अर्पित करना चाहिए। उसे अपने बड़े भाई और उसकी पत्नी की बात माननी चाहिए और दिल से उनकी सेवा करनी चाहिए।

दसवें घर में मंगल (मंगल खाना नंबर 10)

जातक को भगवान हनुमान की पूजा करनी चाहिए और बिना किसी रुकावट के सुंदर कांड का पाठ करना चाहिए। मीठा खाना चाहिए। उसे एक हिरण रखना चाहिए और उसकी देखभाल करनी चाहिए। उसे इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि रसोई में उबलता दूध धरती पर कभी न गिरे।

ग्यारहवें घर में मंगल (मंगल खाना नंबर 11)

जातक को हनुमान जी की पूजा करनी चाहिए। उसे काला और सफेद कुत्ता रखना चाहिए। उसे मिट्टी के बर्तन में शहद और सिंदूर रखना चाहिए और उसे घर में सुरक्षित रखना चाहिए।

बारहवें भाव में मंगल (मंगल खाना नंबर 12)

जातक को अपने घर में कुंद तलवार या चाकू नहीं रखना चाहिए। उन्हें मंगलवार के दिन बडाना का प्रसाद हनुमान मंदिर में बांटना चाहिए।


बुध के लिए लाल किताब के उपाय

प्रथम भाव में बुध (बुद्ध खाना नंबर 1)

जातक को अपनी भाभी से दूर रहना चाहिए। जातक को हरे रंग का प्रयोग नहीं करना चाहिए और इससे दूर रहना चाहिए। जातक को मछली पालन नहीं करना चाहिए और कभी भी अंडे और मांस का सेवन नहीं करना चाहिए।

दूसरे भाव में बुध (बुद्ध खाना नंबर 2)

जातक को कन्याओं की सेवा करनी चाहिए। नोज पिन कर देना चाहिए। फिटकरी से दांत साफ करने चाहिए। उसे किसी मंदिर में दूध और चावल का दान करना चाहिए।

तीसरे घर में बुध (बुद्ध खाना नंबर 3)

जातक को चंद्र और केतु के उपाय करने चाहिए। फिटकरी से दांत साफ करने चाहिए। घर की पूर्व दिशा में लाल रंग की चीजें रखनी चाहिए। जीवन में कोई विशेष परेशानी होने पर जातक को अपनी उम्र के बराबर आम के पत्ते लेकर दूध से धोना चाहिए, फिर उन्हें एक भारी पत्थर के नीचे जमीन में गाड़ देना चाहिए।

चतुर्थ भाव में बुध (बुद्ध खाना नंबर 4)

जातक को अपने धन में वृद्धि के लिए सोने से बनी चेन पहननी चाहिए और मन की शांति के लिए उसे चांदी से बनी चेन पहननी चाहिए। उसे कम से कम सात रविवार तक 4 किलो गुड़ नदी या नहर में प्रवाहित करना चाहिए।

पंचम भाव में बुध (बुद्ध खाना नंबर 5)

जातक को धन और समृद्धि के लिए लाल धागे में तांबे का सिक्का गले में धारण करना चाहिए। इसके लिए उसे चांदी और मोती भी धारण करना चाहिए।

छठे भाव में बुध (बुद्ध खाना नंबर 6)

शुक्र कमजोर होने पर जातक को अपने घर में कांच की बोतल में बारिश का पानी रखना चाहिए। यदि चन्द्रमा और केतु कमजोर हों तो उन्हें दाहिने हाथ में चांदी की अंगूठी पहननी चाहिए।

सातवें घर में बुध (बुद्ध खाना नंबर 7)

जातक को काली गाय की सेवा करनी चाहिए। उसे अपनी मां की तरह बड़ी महिलाओं का सम्मान करना चाहिए।

आठवें घर में बुध (बुद्ध खाना नंबर 8)

जातक को 43 दिनों तक पीले वस्त्रों को बहते जल में धारण कर धोना चाहिए। उन्हें महिला देवता विशेष रूप से मां दुर्गा की पूजा करनी चाहिए। उसे अपने घर में पूजा स्थल नहीं बदलना चाहिए।

नवम भाव में बुध (बुद्ध खाना नंबर 9)

जातक को चना दाल को नदी या नहर में प्रवाहित करना चाहिए। उसे हरे रंग से दूर रहना चाहिए। उसे घर में तोता या बकरी नहीं रखनी चाहिए। उसे चांदी का वस्त्र धारण करना चाहिए। मशरूम को मिट्टी के बर्तन में रखकर मंदिर में दान करना चाहिए।

दशम भाव में बुध (बुद्ध खाना नंबर 10)

जातक को शनि को प्रसन्न करना चाहिए। उसके घर में चौड़ी पत्तियों वाले पौधे या पेड़ नहीं होने चाहिए। उन्हें अपने घर में मनी प्लांट या तुलसी नहीं रखनी चाहिए। उसे 48 साल की उम्र के बाद ही घर बनाना चाहिए।

ग्यारहवें घर में बुध (बुद्ध खाना नंबर 11)

जातक को लाल धागे में तांबे का सिक्का गले में धारण करना चाहिए। उसे रसोई में खाली बर्तनों पर ढक्कन नहीं रखना चाहिए।

बारहवें घर में बुध (बुद्ध खाना नंबर 12)

जातक को भगवान गणेश को प्रसन्न करना चाहिए। उसे ब्लैक एंड व्हाइट डॉग रखना चाहिए। उसे गले में पीला धागा धारण करना चाहिए।



बृहस्पति के लिए लाल किताब के उपाय

प्रथम भाव में बृहस्पति (गुरु खाना नंबर 1)

जातक को सरसों का तेल, बादाम और नारियल नदी या नहर में प्रवाहित करना चाहिए। उसे हमेशा सोने की चेन पहननी चाहिए। माथे पर केसर का तिलक लगाना चाहिए।

दूसरे घर में बृहस्पति (गुरु खाना नंबर 2)

जातक को अपने चरित्र को निष्पक्ष रखना चाहिए और बुराईयों से दूर रहना चाहिए। माथे पर हल्दी या केसर का तिलक लगाना चाहिए। यदि घर के सामने गड्ढे हैं तो उसे भरकर सड़क को समतल कर दें।


तीसरे घर में बृहस्पति (गुरु खाना नंबर 3)

जातक को छोटी कन्याओं की सेवा करनी चाहिए और मां दुर्गा की पूजा करनी चाहिए। उनके आशीर्वाद से उनका जीवन सुखमय हो जाएगा।


चौथे घर में बृहस्पति (गुरु खाना नंबर 4)

जातक को भगवान गणेश और मां दुर्गा को प्रसन्न करना चाहिए। उसे अपने घर में एक काला कुत्ता रखना चाहिए और उसकी दिल से सेवा करनी चाहिए।


पांचवें घर में बृहस्पति (गुरु खाना नंबर 5)

जातक को हर मंगलवार को 43 मंगलवार तक भगवान गणेश के मंदिर में भूरे रंग का झंडा दान करना चाहिए। उन्हें भगवान गणेश को प्रसन्न करना चाहिए। उसे अपने सिर पर एक चोटी (छोटी) रखनी चाहिए। उसे पूजा स्थल को हमेशा साफ रखना चाहिए।


छठे भाव में बृहस्पति (गुरु खाना नंबर 6)

जातक को प्रतिदिन एक पीपल के पेड़ को जल देना चाहिए। उन्हें गुरुवार के दिन किसी मंदिर में 6 किलो चना दाल दान करनी चाहिए।


सातवें घर में बृहस्पति (गुरु खाना नंबर 7)

जातक को भगवान शिव को प्रसन्न करना चाहिए। उसे लाल चंदन के टुकड़े लाल कपड़े में रखना चाहिए। उसे सोने की चेन नहीं पहननी चाहिए।


आठवें घर में बृहस्पति (गुरु खाना नंबर 8)

जातक को काबुली चना या चना दाल किसी मंदिर में दान करनी चाहिए। उसे गले में पीले रंग का धागा पहनना चाहिए और सोने के आभूषण पहनने चाहिए। उसे अंतिम संस्कार स्थल पर पीपल का पौधा लगाना चाहिए।


नौवें घर में बृहस्पति (गुरु खाना नंबर 9)

जातक को प्रतिदिन मंदिर जाना चाहिए। उन्हें पवित्र गंगा में स्नान करना चाहिए। उसे बार-बार धार्मिक यात्राओं पर जाना चाहिए। संतों की सेवा करनी चाहिए।


दसवें घर में बृहस्पति (गुरु खाना नंबर 10)

शनि की स्थिति अच्छी होने पर ही जातक को लाभ मिलेगा अन्यथा उसे 43 दिनों तक तांबे का सिक्का नदी या नहर में प्रवाहित करना चाहिए। रविवार के दिन उसे चार किलो गुड़ नदी या नहर में प्रवाहित करना चाहिए। सूर्य ग्रहण के समय उन्हें लोहे की कील, सरसों का तेल, बादाम, नारियल, काला कपड़ा, काले तिल का दान करना चाहिए।


ग्यारहवें घर में बृहस्पति (गुरु खाना नंबर 11)

जातक को दोषों से दूर रहना चाहिए और नित्य पूजा-पाठ करना चाहिए। उसे ताबूत दान करना चाहिए।


बारहवें घर में बृहस्पति (गुरु खाना नंबर 12)

जातक को प्रतिदिन बरगद या पीपल के पेड़ को जल देना चाहिए। उन्हें अपना भाग्य बढ़ाने के लिए साधुओं, ब्राह्मणों और अपने पिता की सेवा करनी चाहिए। उन्हें केसर का तिलक पहनना चाहिए और सिर पर चोटी (छोटी) रखनी चाहिए।



शुक्र ग्रह के लिए लाल किताब के उपाय

प्रथम भाव में शुक्र (शुक्र खाना नंबर 1)

जातक को काली गाय की सेवा करनी चाहिए। उसे दही से स्नान करना चाहिए। उसे दिन के समय सेक्स नहीं करना चाहिए। उसे गुड़ नहीं खाना चाहिए। सात अनाज मिलाकर दान करना चाहिए।


दूसरे भाव में शुक्र (शुक्र खाना नंबर 2)

जातक को सफेद गाय की सेवा करनी चाहिए। शुक्रवार के दिन गाय को दो किलो आलू देना चाहिए। गाय के दूध से बना घी माता महालक्ष्मी के मंदिर में दान करना चाहिए।


तीसरे घर में शुक्र (शुक्र खाना नंबर 3)

यदि जातक की पत्नी बीमार रहती है तो उसे घर की छत पर पास के तालाब से प्राप्त मिट्टी के नीचे दबी हुई चांदी की डिब्बी में शहद रखना चाहिए। उसे हथियार नहीं रखना चाहिए।


चतुर्थ भाव में शुक्र (शुक्र खाना नंबर 4)

जातक को अपने घर की छत पर ओपन एयर पूल बनाना चाहिए। गुरुवार के दिन पीली मिठाई कुएं में डालनी चाहिए।


पांचवें घर में शुक्र (शुक्र खाना नंबर 5)

जातक को काली गाय की सेवा करनी चाहिए और अपने चरित्र को निष्पक्ष रखना चाहिए। उसे विवाहेतर संबंधों में लिप्त नहीं होना चाहिए। उसे अपने गुप्तांगों को दही से धोना चाहिए।


छठे भाव में शुक्र (शुक्र खाना नंबर 6)

जातक को स्त्रियों के साथ सम्मानपूर्वक व्यवहार करना चाहिए।


सातवें घर में शुक्र (शुक्र खाना नंबर 7)

जातक को शुक्रवार के दिन देवी महालक्ष्मी मंदिर में कांसे का बर्तन दान करना चाहिए। उसे गंदे बहते नाले में नीला फूल फेंकना चाहिए। उसे भूरी गायों की सेवा करनी चाहिए।


आठवें घर में शुक्र (शुक्र खाना नंबर 8)

जातक को शुक्रवार के दिन मंदिर में आठ किलो यम (जमीकंद) का दान करना चाहिए। काली गाय की सेवा करनी चाहिए।


नवम भाव में शुक्र (शुक्र खाना नंबर 9)

जातक को चांदी को जेब में रखना चाहिए। उसे अपने भोजन में सफेद वस्त्र धारण करना चाहिए और दही का सेवन करना चाहिए। उसे नीम के पेड़ के नीचे चांदी के नौ चौकोर टुकड़े गाड़ने चाहिए।


दसवें घर में शुक्र (शुक्र खाना नंबर 10)

जातक को काली गाय का दान करना चाहिए। उसे स्वयं को दोषों से दूर रखना चाहिए।


ग्यारहवें घर में शुक्र (शुक्र खाना नंबर 11)

जातक को शुक्रवार के दिन मंदिर में रूई और दही का दान करना चाहिए। शनिवार के दिन बहते जल में सरसों का तेल डालें।


बारहवें घर में शुक्र (शुक्र खाना नंबर 12)

जातक को स्वयं को नीले रंग से दूर रखना चाहिए। उन्हें शनिवार के दिन नीले फूल को किसी सुनसान जगह पर गाड़ देना चाहिए।



शनि के लिए लाल किताब के उपाय

प्रथम भाव में शनि (शनि खाना नंबर 1)

जातक को शनिवार के दिन सबुत उड़द, सरसों का तेल, बादाम, लोहे की कील, काला कपड़ा दान करना चाहिए। उसे अपने घर में एक बंदर रखना चाहिए। उसे प्रतिदिन एक बरगद के वृक्ष को जल देना चाहिए। उसे अंगीठी दान करनी चाहिए।


दूसरे भाव में शनि (शनि खाना नंबर 2)

जातक को अपने चेहरे या सिर पर काला तेल या सरसों का तेल नहीं लगाना चाहिए। उसे नियमित रूप से मिक पीना चाहिए और दही का सेवन करना चाहिए। उसे 43 दिनों तक नियमित रूप से मंदिर जाकर भगवान के सामने स्वीकारोक्ति करनी चाहिए।


तीसरे भाव में शनि (शनि खाना नंबर 3)

जातक को घर के प्रवेश द्वार पर लोहे की कीलें लगानी चाहिए। उसे अपने घर के आखिरी हिस्से में बिना खिड़कियों वाला एक अंधेरा कमरा बनाना चाहिए और उसमें काला कपड़ा, लोहा, तिल के बीज, सरसों का तेल, बादाम रखना चाहिए। उन्हें घर में ब्लैक एंड व्हाइट डॉग रखना चाहिए।


चतुर्थ भाव में शनि (शनि खाना नंबर 4)

जातक को कौवे को दूध और चावल अर्पित करना चाहिए। उसे चावल और दूध को गहरे कुएँ में फेंक देना चाहिए। शनिवार के दिन उन्हें सरसों का तेल, सबुत उड़द की दाल, लोहे की कील और काला कपड़ा दान करना चाहिए।


पंचम भाव में शनि (शनि खाना नंबर 5)

जातक को कीमती धातुओं और धन को एक ही स्थान पर रखना चाहिए। और घर में इधर-उधर न बिखरें। बेहतर होगा कि एक लॉकर में ही रखें। उसे अपने घर की पश्चिम दिशा में तांबा, लाल कपड़ा, गेहूं, जौ रखना चाहिए।


छठे भाव में शनि (शनि खाना नंबर 6)

जातक को नारियल और बादाम को नदी या नहर में प्रवाहित करना चाहिए। उसे घर में काला कुत्ता रखना चाहिए। उसे अंधेरी रात में किसी नदी या तालाब के पास मिट्टी के नीचे सरसों के तेल से भरा मिट्टी का बर्तन रखना चाहिए। अमावस्या श्रेष्ठ है।


सातवें घर में शनि (शनि खाना नंबर 7)

जातक को बांसुरी में गुड़ भरकर सुनसान जगह पर गाड़ देना चाहिए। घर में हमेशा शहद से भरा बर्तन रखें।


आठवें घर में शनि (शनि खाना नंबर 8)

जातक को शनिवार के दिन आठ किलो दूध एक नदी में प्रवाहित करना चाहिए। उसे चांदी का वस्त्र धारण करना चाहिए और सभी प्रकार के दोषों से दूर रहना चाहिए। नहाते समय पानी में दूध मिलाना चाहिए।


नवम भाव में शनि (शनि खाना नंबर 9)

जातक को अपने घर की छत पर घास या लकड़ी नहीं रखनी चाहिए। विशेष रूप से एक बांस की सीढ़ी यदि मौजूद हो तो उसे हटा दिया जाना चाहिए। उसे अपने घर के अंत में एक डार्क रूम बनाना चाहिए। उसे घर में टूटा हुआ फर्नीचर नहीं रखना चाहिए।


दसवें घर में शनि (शनि खाना नंबर 10)

जातक को शनिवार के दिन साबूत उड़द की दाल नदी या नहर में प्रवाहित करनी चाहिए। उन्हें भगवान गणेश को प्रसन्न करना चाहिए। उसे प्रत्येक शनिवार को दस नेत्रहीनों को भोजन कराना चाहिए।


ग्यारहवें भाव में शनि (शनि खाना नंबर 11)

जातक को 43 दिनों के लिए सूर्योदय के समय सरसों का तेल और शराब पृथ्वी पर फेंकना चाहिए। उन्हें हर शनिवार को ग्यारह भिखारियों को शराब का दान करना चाहिए।


बारहवें भाव में शनि (शनि खाना नंबर 12)

जातक को अपने आप को सभी दोषों से दूर रखना चाहिए। उसे झूठ नहीं बोलना चाहिए। बारह बादामों को एक काले कपड़े में लपेट कर बिना खिड़कियों वाली एक अंधेरी दुकान में रखना चाहिए। उसे अपनी आंखों का ख्याल रखना चाहिए।



राहु के लिए लाल किताब के उपाय

प्रथम भाव में राहु (राहु खाना नंबर 1)

जातक को मंगलवार के दिन तांबे के बर्तन का दान करना चाहिए। वह इसे गेहूं और गुड़ से भर दें तो बेहतर होगा। उसे गले में चांदी की चेन नहीं पहननी चाहिए।


दूसरे भाव में राहु (राहु खाना नंबर 2)

जातक को अपनी जेब में चांदी की गेंद या सोने की गेंद रखनी चाहिए। हाथी के पांव से मिट्टी उठाकर उसे गहरे कुएं में फेंक देना चाहिए। उसे अपने ससुराल परिवार से कोई बिजली का सामान नहीं लेना चाहिए।


तीसरे भाव में राहु (राहु खाना नंबर 3)

जातक को अपने घर में असली हाथी का दांत या उससे बनी वस्तु रखनी चाहिए। लेकिन बुध भी हो तो ऐसा नहीं करना चाहिए। उसे पीपल का पौधा लगाना चाहिए और उसकी अच्छी तरह से देखभाल करनी चाहिए।


चौथे घर में राहु (राहु खाना नंबर 4)

जातक को चांदी का वस्त्र धारण करना चाहिए। उसे चार किलो धनिया और चार किलो बादाम नदी या नहर में प्रवाहित करना चाहिए। उसे अपनी छत पर कोयला नहीं रखना चाहिए। उसे सीढ़ी के नीचे रसोई नहीं बनानी चाहिए।


पांचवें घर में राहु (राहु खाना नंबर 5)

जातक को अपने घर के प्रवेश द्वार के नीचे चांदी का चौकोर टुकड़ा रखना चाहिए। शुक्रवार की रात सोते समय पत्नी के सिर के पास पांच मूली रखें और शनिवार को दान करें।


छठे भाव में राहु (राहु खाना नंबर 6)

जातक को अपनी जेब में कांच की एक काली गेंद या सीसा रखना चाहिए। उसे अपने घर में एक भूरा कुत्ता रखना चाहिए। उन्हें देवी सरस्वती को प्रसन्न करना चाहिए और उन्हें लगातार छह दिनों तक नीले फूल चढ़ाने चाहिए।


सातवें घर में राहु (राहु खाना नंबर 7)

जातक को अपने घर में चांदी की ईंट रखनी चाहिए। विवाह के समय जातक को अपने ससुर से चांदी की गेंद ले लेनी चाहिए, जो जातक को अपनी पत्नी को देनी चाहिए और अपनी पत्नी को सुरक्षित रखना चाहिए। नारियल और बादाम को नदी या नहर में प्रवाहित करना चाहिए।


आठवें घर में राहु (राहु खाना नंबर 8)

जातक को अपनी जेब में चांदी का चौकोर टुकड़ा रखना चाहिए। बयालीस साल की उम्र तक उसे हर साल सीसे के आठ सिक्के नदी या नहर में प्रवाहित करने चाहिए।


नवम भाव में राहु (राहु खाना नंबर 9)

जातक को हमेशा अपने सिर को टोपी या कपड़े से ढंकना चाहिए। उसे सोना पहनना चाहिए। उसे अपने घर में एक कुत्ता रखना चाहिए। उन्हें प्रतिदिन केसर का तिलक लगाना चाहिए। शनिवार के दिन उन्हें सरसों और तंबाकू का दान करना चाहिए।


दसवें घर में राहु (राहु खाना नंबर 10)

जातक को केवल नीली या काली टोपी (कपड़ा या टोपी) पहननी चाहिए। उसे जौ को जमीन के नीचे गहरे सूखे तालाब में गाड़ देना चाहिए।


ग्यारहवें घर में राहु (राहु खाना नंबर 11)

जातक को सात्विक भोजन ही करना चाहिए। और राजसिक या तामसिक भोजन नहीं करना चाहिए। गुरुवार के दिन पीले कपड़े में लपेटकर हल्दी का दान करना चाहिए। उन्हें प्रतिदिन माथे पर केसर का तिलक लगाना चाहिए। चांदी के गिलास में पानी पीना चाहिए। उसे शनिवार के दिन सीसे के टुकड़े नदी या नहर में प्रवाहित करना चाहिए।


बारहवें घर में राहु (राहु खाना नंबर 12)

जातक को सोते समय अपने तकिये में लाल कपड़े में लपेटा हुआ सौंफ और लाल मूंगा रखना चाहिए। उसे रसोई में ही भोजन करना चाहिए। उसे गले में चांदी का चौकोर टुकड़ा धारण करना चाहिए। उसे अपनी आय का कुछ हिस्सा बहनों या बेटियों को उपहार में देना चाहिए।


केतु के लिए लाल किताब के उपाय

प्रथम भाव में केतु (केतु खाना नंबर 1)

जातक को रविवार की सुबह सूर्योदय के बाद मंदिर में काला और सफेद कंबल दान करना चाहिए। उसे दोनों पैरों के अंगूठे में चांदी की अंगूठी पहननी चाहिए।


दूसरे घर में केतु (केतु खाना नंबर 2)

जातक को प्रतिदिन माथे पर केसर का तिलक लगाना चाहिए। छोटी बच्चियों की सेवा करनी चाहिए। उसे कभी भी अपनी पत्नी का अपमान नहीं करना चाहिए।


तीसरे घर में केतु (केतु खाना नंबर 3)

जातक को शरीर पर सोना तथा माथे पर केसर का तिलक धारण करना चाहिए। उसे गुरुवार के दिन तीन किलो चना दाल नदी या नहर में प्रवाहित करना चाहिए। उसे अपने मन और आत्मा की बात सुननी चाहिए और कभी भी दूसरों की सलाह से बनाए गए मानसिक दबाव में नहीं आना चाहिए।


चौथे घर में केतु (केतु खाना नंबर 4)

जातक को चांदी का वस्त्र धारण करना चाहिए। उन्हें चार किलो गेहूं और चार किलो गुड़ पीले कपड़े में लपेटकर परिवार पंडित को अर्पित करना चाहिए और उनका आशीर्वाद लेना चाहिए।


पंचम भाव में केतु (केतु खाना नंबर 5)

जातक को मंगलवार के दिन तांबा और जौ का दान करना चाहिए। सोमवार के दिन चावल और दूध का दान करना चाहिए। उसे अपने घर में बक्से खाली नहीं रखने चाहिए।


छठे भाव में केतु (केतु खाना नंबर 6)

जातक को बाएं हाथ की छोटी उंगली में सोने की अंगूठी पहननी चाहिए। उन्हें मंदिर में नित्य 43 दिनों तक केले का दान करना चाहिए। उसे काले और सफेद तिल मिलाकर नदी या नहर में प्रवाहित करना चाहिए।


सातवें घर में केतु (केतु खाना नंबर 7)

जातक को माथे पर केसर का तिलक लगाना चाहिए। उसे कभी भी अहंकारी और अति अभिमानी व्यवहार नहीं करना चाहिए। उसे गरीब लोगों का भी सम्मान करना चाहिए। उसे लगातार 43 दिनों तक सात केले बहते पानी में प्रवाहित करना चाहिए।


आठवें घर में केतु (केतु खाना नंबर 8)

जातक को अपने कान छिदवाना चाहिए और कानों में सोना पहनना चाहिए। उन्हें हर गुरुवार को मंदिर में आठ किलो चना दाल दान करनी चाहिए। उसे अपने घर में एक कुत्ता रखना चाहिए। उसे मंदिर में काला, सफेद और भूरा मिश्रित रंग का कंबल दान करना चाहिए।


नौवें घर में केतु (केतु खाना नंबर 9)

जातक को भगवान गणेश को प्रसन्न करना चाहिए। उसे अपने घर में एक कुत्ता रखना चाहिए। उसे सोना पहनना चाहिए और हो सके तो अपने घर में सोने की ईंट रखनी चाहिए। उन्हें हमेशा अपने पिता और पंडितों का सम्मान करना चाहिए।


दसवें घर में केतु (केतु खाना नंबर 10)

जातक को घर में चांदी के डिब्बे में शहद रखना चाहिए। उसे एक्स्ट्रा मैरिटल रिलेशन में नहीं पड़ना चाहिए।


ग्यारहवें घर में केतु (केतु खाना नंबर 11)

जातक की पत्नी को सोते समय एक मूली सिर के पास रखनी चाहिए और अगली सुबह उसे मंदिर में दान कर देना चाहिए। इसे लगातार चालीस तीन दिनों तक करना चाहिए। जातक को अपने घर में काला कुत्ता रखना चाहिए।


बारहवें घर में केतु (केतु खाना नंबर 12)

जातक को भगवान गणेश को प्रसन्न करना चाहिए। उसे अपने घर पर एक कुत्ता अवश्य रखना चाहिए और यदि वह मर जाता है तो जल्द से जल्द दूसरा कुत्ता ले आओ। दूध में गुड़ का चूर्ण मिलाकर उसमें अपना अंगूठा डुबोकर चूसें।

No comments:

Post a Comment

Know About Lal Kitab | What is Lal kItab | Lal Kitab origin

Detailed Introduction: History about Lalkitab 19वीं शताब्दी के दौरान पाकिस्तान के पंजाब क्षेत्र में, पंडित गिरिधारी लाल जी शर्मा ब्रिटिश प्र...

Contact form

Name

Email *

Message *