Tuesday, 18 May 2021

Jupiter in 6th house: Career, job, Leadership, Struggle

When Jupiter in 6th house,  its denotes job, enemy, career, Jupiter gives some struggles in 6th house. 

जानिये छटे घर मे ब्रहस्पति का फल। कैसी रहेगी जॉब , शत्रु , जातक का स्वभाव कैसा होगा। 

बृहस्पति वैभव और संपन्नता का ग्रह है। यह आकाशीय जगत का आध्यात्मिक गुरु है। जीवन में सफलता और खुशी प्राप्त करने के लिए इसका आशीर्वाद महत्वपूर्ण है। वैसे, बृहस्पति भी उदारता और धन के लिए खड़ा है। छठे भाव के लिए, यह काम, नौकरी, रोजमर्रा की जिंदगी, व्यवस्था, आत्म-विकास और खुशी, सुधार की इच्छा, आध्यात्मिकता, स्वास्थ्य आदि को नियंत्रित करता है। जब बृहस्पति (या गुरु) छठे भाव में रहता है, तो जातक पेशे में और निजी जीवन में भी सफल होंगे। उन्हें चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा लेकिन ये चुनौतियां दुर्गम नहीं होंगी और वे इसका प्रबंधन करने में सक्षम होंगे।

छठे भाव में बृहस्पति के कारण प्रभावित क्षेत्र:

पेशा और करियर

समृद्धि और बहुतायत

काम के प्रति रवैया

दूसरों के प्रति रवैया

सकारात्मक लक्षण / प्रभाव:

छठे भाव में बृहस्पति के जातक दूसरों के साथ अपने व्यापारिक व्यवहार में उच्च मानक रखते हैं। इन जातकों का मानना ​​है कि हमेशा दूसरों के साथ सम्मान और विश्वास के साथ पेश आना चाहिए। इसका अर्थ यह हो सकता है कि अल्पावधि में व्यवसाय के अवसरों से हाथ धोना पड़े, लेकिन वे लंबे समय में अच्छे दोस्त, शुभचिंतक, पेशेवर और प्रतिबद्ध ग्राहक जीत सकते हैं।

साथ ही छठे भाव में बृहस्पति के जातक कम भाग्यशाली लोगों की मदद करेंगे। वे समृद्ध और शानदार भोजन के प्रति आकर्षित हो सकते हैं, जिससे आपको स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। मूल निवासी आमतौर पर अपने काम में और दूसरों के लिए उपयोगी होने में बहुत आनंद लेते हैं।

जन्म कुंडली में छठे भाव में बृहस्पति के जातक अपने दृष्टिकोण में इतने सूक्ष्म होते हैं कि वे नहीं चाहते कि त्रुटि के लिए कोई जगह हो। वे हर काम को बहुत गंभीरता से ले सकते हैं, चाहे वह काम के लिए हो या मनोरंजन के लिए क्योंकि वे चाहते हैं कि सब कुछ सही हो। वे हर विवरण को सही ढंग से प्राप्त करने के लिए बहुत ध्यान देते हैं और प्रशंसा की प्रतीक्षा करते हैं कि उनके प्रयास आमतौर पर वारंट करते हैं।

छठे भाव में बृहस्पति के जातक अपनी इच्छानुसार चीजों को अंजाम दे सकते हैं। हालाँकि, जब अन्य लोग शामिल होते हैं, तो वे लगाम को थोड़ा छोड़ देते हैं और दूसरों को किसी चीज़ पर अपनी स्पिन लगाने का समान अवसर देते हैं। उनका तरीका हमेशा सबसे अच्छा या सही तरीका नहीं होता है और अगर वे दूसरों की सुनते हैं तो यह उनके लिए अच्छा होगा।

नकारात्मक लक्षण / प्रभाव:

बृहस्पति के छठे भाव में गोचर करने वाले जातक किसी के काम की आलोचना करने पर नाराज हो जाते हैं। जरा सी आलोचना भी उन्हें परेशान कर देती है और उनके काम के खिलाफ बोलने वालों के लिए वे बहुत खराब हो सकते हैं। जातक यह आलोचना जान-बूझकर न करते हुए भी पसन्द नहीं करते। यह आपके रिश्तों को भी प्रभावित कर सकता है। अगर वे जीवन में आगे बढ़ना चाहते हैं तो उन्हें आराम करना सीखना चाहिए और हर चीज को इतनी गंभीरता से नहीं लेना चाहिए।

छठे भाव में बृहस्पति के जातक न केवल अपने ऊपर उच्च मानक रखते हैं, बल्कि अपने आस-पास के लोगों से भी बड़ी उम्मीदें रखते हैं, चाहे वह काम करने वाले सहकर्मी हों, दोस्त हों या परिवार के सदस्य

साथ ही उन्हें दूसरों की मदद करने में भी सावधानी बरतने की जरूरत है। मूल निवासी यह अनुभव कर सकते हैं कि वे दूसरों की मदद कर रहे हैं, हालांकि, ये लोग इसे एक अनुचित बाधा के रूप में ले सकते हैं न कि मदद के रूप में। इसके अलावा, यदि बृहस्पति छठे भाव में वक्री है, तो जातकों को उन चीजों के लिए नीचे नहीं रखना चाहिए जो महत्वपूर्ण नहीं हैं या जिन्हें केवल मूल निवासी ही महत्वपूर्ण मानते हैं। ये जातक नियोजन और आयोजन में बहुत अच्छे हो सकते हैं, जो तब बहुत अच्छा होता है जब कोई और इसमें शामिल न हो।

निष्कर्ष:

छठे भाव में बृहस्पति के जातक बहुत अच्छे कर्मयोगी होते हैं। वे पूरी तरह से पेशेवर हो सकते हैं। यदि वे आलोचना के प्रति कम संवेदनशील हो जाते हैं और दूसरों की आलोचना को अधिक स्वस्थ और रचनात्मक तरीके से लेते हैं तो उनकी वास्तविकता क्षमता बन सकती है।

No comments:

Post a Comment

Know About Lal Kitab | What is Lal kItab | Lal Kitab origin

Detailed Introduction: History about Lalkitab 19वीं शताब्दी के दौरान पाकिस्तान के पंजाब क्षेत्र में, पंडित गिरिधारी लाल जी शर्मा ब्रिटिश प्र...

Contact form

Name

Email *

Message *