Tuesday, 8 June 2021

Jupiter in 9th House in Hindi

 गुरु कुंडली के नवम भाव में अच्छा फल देता है, जिस जातक की कुंडली के नवम भाव में बृहस्पति होता है वह व्यक्ति उदार और बुद्धिमान होता है। उसे समाज और शहर में सम्मान मिलता है। वह अच्छे आध्यात्मिक ज्ञान के साथ एक बहुत ही धार्मिक है। वह समाज में अपनी धार्मिक गतिविधियों के लिए जाना जाता है और धार्मिक गतिविधियों के कारण धनवान बन जाता है या हम कह सकते हैं कि बृहस्पति उसे सम्मान और धन दोनों देता है।


कुंडली के नवम भाव में बृहस्पति व्यक्ति को ईमानदार बनाता है लेकिन राहु की युति उस व्यक्ति को धोखेबाज बना सकती है क्योंकि बृहस्पति और राहु की युति गुरु चांडाल योग बनाती है। मैं अलग अध्याय में गुरुचांडाल योग की व्याख्या करूंगा। नवम भाव में बृहस्पति ने जातक को एक प्रसिद्ध और सफल पुत्र के साथ पक्षपात किया। जातक कंजूस होगा लेकिन स्त्री मंडल में बहुत लोकप्रिय होगा। नवम भाव में बृहस्पति दर्शन, प्रकाशन, ज्योतिष, शिक्षक, अधिवक्ता और निर्यातक या आयातक अधिनियम का पेशा या व्यवसाय दे सकता है। केतु की युति इस व्यक्ति को अध्यात्म में गहरा कर सकती है। मंगल और शनि की युति लंबी यात्राओं में आकस्मिक संयोग बना सकती है इसलिए यदि नवम भाव में मंगल और शनि के साथ बृहस्पति की युति हो तो वाहन चलाते समय और लंबी यात्रा में सावधान रहें।


मेष, सिंह या धनु जैसी उग्र राशियों में नवम भाव में बृहस्पति व्यक्ति को उच्च शिक्षा देता है, जातक विदेश में भी अधिनिर्णय ले सकता है।


वृष, कन्या या मकर राशि में नवम भाव में बृहस्पति विज्ञान में रुचि देता है और उसे विज्ञान विषयों की उच्च शिक्षा प्राप्त होती है। वह वैज्ञानिक हो सकता है लेकिन व्यक्ति स्वार्थी भी हो सकता है।


मेष, मिथुन, सिंह, तुला, धनु और कुंभ जैसे पुरुष राशियों में नवम भाव में बृहस्पति व्यक्ति को भाई-बहनों के लिए समस्याग्रस्त बनाता है, उसके केवल एक या कोई भाई-बहन नहीं हो सकता है।


वृष, कर्क, कन्या, वृश्चिक, मकर या मीन जैसी स्त्री राशियों में नवम भाव में बृहस्पति व्यक्ति को भाई-बहनों के लिए भाग्यशाली बनाता है और उनकी मात्रा अधिक होगी और वे सफल होंगे।


मिथुन, तुला या कुम्भ जैसे वायु राशियों में नवम भाव में बृहस्पति लेखन, प्रकाशन और संपादन कार्यों या पेशे में लाभ दे सकता है।


नवम भाव में बृहस्पति के साथ सकारात्मक शनि और शुक्र की युति व्यक्ति को सफल न्याय दिला सकती है।


नोट: बृहस्पति के नवम भाव में ये सभी परिणाम भारतीय वैदिक ज्योतिष के आधार पर लिखे गए हैं। कुंडली के नवम भाव में बृहस्पति का कोई भी परिणाम कुंडली में बृहस्पति के साथ अन्य ग्रहों की युति और उस पर दृष्टि के अनुसार बदल या संशोधित कर सकता है।

No comments:

Post a Comment

Know About Lal Kitab | What is Lal kItab | Lal Kitab origin

Detailed Introduction: History about Lalkitab 19वीं शताब्दी के दौरान पाकिस्तान के पंजाब क्षेत्र में, पंडित गिरिधारी लाल जी शर्मा ब्रिटिश प्र...

Contact form

Name

Email *

Message *