Thursday, 27 May 2021

Result when Jupiter in 8th house | बृहस्पति 8वे घर मे

शिक्षा, परिवार:- गुरु/बृहस्पति ग्रह कुंडली/कुंडली/जन्म कुंडली के आठवें भाव में – वैदिक ज्योतिष: गुरु की व्यक्तिगत जन्म कुंडली में गुरु का आठवें घर में होना जातक को आशावादी, विवेकपूर्ण और सहयोगी बनाता है। जब कुंडली में गुरु अष्टम भाव में होता है, तो जातक को बिजनेस पार्टनर, जीवनसाथी या जीवनसाथी के परिवार से विरासत और विरासत के मामलों में आर्थिक लाभ हो सकता है।

सभी लग्नों के लिए लग्न से ८वें भाव में गुरु/बृहस्पति ग्रह

व्यक्ति को परिवार, रिश्तेदारों और यहां तक ​​कि दोस्तों से भी आर्थिक मदद और समर्थन मिल सकता है। जातक अत्यधिक सहज, बौद्धिक, दयालु, कामुक, भावनात्मक और संवेदनशील होता है।

इन जातकों को अपनी ऊर्जा का सकारात्मक उपयोग मानवता और मानसिक घावों को ठीक करने के लिए करना चाहिए और मानव जाति की सेवा करनी चाहिए। उनके जीवन का एकमात्र उद्देश्य कम भाग्यशाली या दलितों की मदद करना होना चाहिए। अन्य लोगों के धन को शामिल करना और व्यवहार करना भी आपको वित्तीय लाभ प्रदान करेगा और संचित करेगा।

लग्न से आठवें घर में गुरु या गुरु सभी लग्न सामान्य प्रभाव के लिए: - आठवें घर में बृहस्पति या गुरु का प्रभाव और परिणाम आठवें घर में अलग-अलग राशि, डिग्री, हानिकारक और लाभकारी गरिमा, प्रभुत्व, डिग्री के रूप में भिन्न हो सकता है। दहन, हानिकारक और लाभकारी पहलू, क्लेश, युति, बृहस्पति विभिन्न नक्षत्रों (नक्षत्र) में और साथ ही 8 वें घर में बृहस्पति या गुरु की ताकत और गरिमा।


अष्टम भाव में बृहस्पति जातक को बहुत ज्ञान देता है। जातक 17 वर्ष की आयु के बाद ही परिपक्व और समझदार होता है। जातक बिना किसी अहंकार के होगा और ज्ञात और अज्ञात के प्रति बहुत ही शांत रहेगा। जातक अपने जीवन की शुरुआत में ही अपने लक्ष्य निर्धारित कर लेता है और जातक अपने जन्मस्थान से विदेश या शहर में उच्च शिक्षा प्राप्त कर सकता है।

जातक अपनी कम उम्र में कुछ गुरुओं से मिल सकता है और जादू और ज्योतिष के माध्यम से जीवन के कुछ रहस्यों को जान सकता है। जातक की ज्योतिष में गहरी रुचि होगी। जातक साहित्य और ललित कलाओं में भी पारंगत होगा।

अष्टम भाव में बृहस्पति और वैदिक ज्योतिष में प्रेम प्रसंग

कुंडली / जन्म कुंडली में 8 वें घर में बृहस्पति और आपका प्रेम जीवन:- जातक के जीवन में एक या दो के अलावा अधिक प्रेम संबंध नहीं होंगे। जातक युवावस्था तक बहुत ही अकर्मण्य और निर्दोष रहेगा।


जातक अपने लव पार्टनर के प्रति बुद्धिमान और सम्मानजनक होगा और जातक अपने साथी में भावनात्मक और आध्यात्मिक संबंध की तलाश करेगा जो जातक को जीवन की बहुत ही कोमल उम्र में अपनी आत्मा को पाने में मदद करेगा। जातक जल्दी शादी कर सकता है और अरेंज मैरिज के जरिए भी अपना जीवनसाथी पा सकता है।


कुंडली में गुरु/गुरु आठवें भाव में/ जन्म कुंडली और विवाह


लग्न / लग्न से अष्टम भाव में बृहस्पति और आपका विवाह / विवाहित जीवन / साथी / जीवनसाथी: - जीवनसाथी या जीवन साथी जातक के प्रति सबसे अधिक आज्ञाकारी समर्पित, वफादार और सहायक होगा। ज्यादातर मामलों में अरेंज मैरिज की संभावना अधिक होगी लेकिन यह जातक के जीवन में सकारात्मक, खुशहाल, हर्षित और फलदायी साबित होगी।


जातक का वैवाहिक जीवन सुखी, भाग्यशाली और स्वस्थ संतानों के साथ सुखी और सौहार्दपूर्ण रहेगा। जीवनसाथी जातक के सुख और आराम की कुंजी होगा। जीवनसाथी वास्तव में जातक और जातक के परिवार के प्रति देखभाल करने वाला और प्यार करने वाला होगा।

कुंडली और करियर के आठवें घर में बृहस्पति/बृहस्पति

नेटल चार्ट और करियर में आठवें घर में बृहस्पति:- जातक बहुत प्रभावी और कुशल डॉक्टर, मनोवैज्ञानिक या वकील बन सकता है। जातक आध्यात्मिक गुरु या योग शिक्षक बन सकता है। योग, अध्यात्म, ध्यान और धर्म के क्षेत्र में अपने उच्च ज्ञान के कारण मूल निवासी वक्ता या विद्वान बन सकते हैं। जीवन के उन्नत वर्षों में जातक बहुत धार्मिक भी हो जाएगा।

करियर से संबंधित सलाह और परामर्श भी जातक के लिए बहुत धन और जीवन में अच्छी वृद्धि प्रदान करेगा। जातक एक लोकप्रिय स्पोर्ट्स स्टार भी बन सकता है या सरकारी अस्पताल और सरकारी निकायों से भी धन कमा सकता है। जातक बहुत लोकप्रिय और सफल ज्योतिषी भी बन सकता है।

8 वें घर में बृहस्पति और राशिफल / कुंडली में सेक्स / यौन संबंध

कुंडली के 8वें घर में बृहस्पति या गुरु - आपका यौन जीवन: -  बिस्तर सुख के साथ-साथ कामुक, भावनात्मक और संगत शारीरिक रोमांस के स्पर्श के साथ-साथ मूल यौन जीवन ठीक रहेगा। जातक विवाहेतर संबंधों या यौन गतिविधियों में अधिक लिप्त नहीं होगा और अपने जीवनसाथी या जीवन साथी के प्रति वफादार रहेगा। जीवनसाथी शादी के बाद जातक को भरपूर सुख और यौन संतुष्टि देगा।

कुंडली में गुरु/गुरु अष्टम भाव में और आपका वित्

जातक दूसरों के पैसे से कमाएगा। जातक अन्य लोगों के साथ व्यवहार करके और अपनी संपत्ति के माध्यम से अपना धन कमाएगा। आर्थिक रूप से जातक कुछ संपत्ति और विरासत और विरासत से धन सहित संपत्ति और संपत्ति की अच्छी मात्रा के साथ मजबूत होगा। मूल व्यवसाय भी विरासत और विरासत का परिणाम हो सकता है। जातक को 30 वर्ष की आयु से आर्थिक सुरक्षा प्राप्त होगी।

जातक अपने स्वयं के व्यवसाय या पेशे से बहुत अधिक कमाएगा। साझेदारी में व्यापार जातक के लिए बहुत धन और लाभ लाएगा। जीवन के मध्य वर्षों में जातक की आय में वृद्धि होगी। यद्यपि जातक पर विशेष रूप से किसी विदेशी भूमि की यात्रा के दौरान उच्च खर्च होंगे या जातक किसी दान कार्य में शामिल हो सकता है और धन दान कर सकता है।


वैदिक ज्योतिष और आपके परिवार में आठवें घर में बृहस्पति Jupiter

जातक के परिवार के सदस्य और रिश्तेदार जातक के प्रति खुश, वफादार, प्यार करने वाले और सहयोगी होंगे। पारिवारिक वातावरण एक दूसरे के बीच बहुत शांति और वास्तविक बंधन के साथ-साथ हर्षित और सामंजस्यपूर्ण होगा

जातक के प्रति भाई-बहन बहुत देखभाल करने वाले, प्यार करने वाले और सहयोगी होंगे। जातक के सेवक भी जातक के बहुत आज्ञाकारी और सहयोगी होंगे। कुल मिलाकर, जातक बहुत संतुष्टि के साथ शांतिपूर्ण घरेलू जीवन का आनंद लेगा। जातक को अपने भाई-बहनों और रिश्तेदारों से आर्थिक सहयोग मिलेगा। माता-पिता जातक की भलाई के प्रति समर्पित रहेंगे।

जन्म कुण्डली/कुंडली में बृहस्पति अष्टम भाव में और आपका स्वास्थ्य

आठवें भाव में बृहस्पति जातक के लिए स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं लेकर आता है। जातक जीवन में हैजा, मलेरिया या तपेदिक से पीड़ित हो सकता है। जातक को हड्डियों और जोड़ों में दर्द भी होगा। जातक को जीवन में बवासीर या किसी प्रकार की महामारी से भी पीड़ित हो सकता है। जातक की मृत्यु किसी दुर्घटना के कारण या गुर्दे की विफलता से विफलता के कारण हो सकती है। हालांकि, शराब या धूम्रपान और किसी भी तरह के नशे में किसी भी तरह के अतिरिक्त भोग में शामिल नहीं होने पर जातक का कुल जीवनकाल 60 से ऊपर होगा

ज्योतिष में कुंडली के आठवें भाव में बृहस्पति का विशेष प्रभाव

इस घर में बृहस्पति के साथ जातक धन के मामलों और कानूनी मामलों को संभालने में स्वाभाविक रूप से अच्छा है, इसलिए आमतौर पर जीवन में एक स्थिर और बेहतर वित्तीय स्थिति और तरल धन सुरक्षा होती है। जातक के पास बहुत बचत होगी और उसे कभी भी तरल धन की आवश्यकता नहीं होगी। जातक के जीवन में धन की कमी नहीं होगी।

जब बुरे पहलुओं के तहत या अशुभ संयोग, क्लेश के तहत, 8 वें घर में बृहस्पति भी अपेक्षित विरासत और धन के वैधीकरण की प्रक्रिया में रुकावट, देरी और बाधा का कारण बनता है जो विरासत से आता है। बृहस्पति की पीड़ा या खराब संगति यह भी इंगित करती है कि व्यक्ति का झुकाव अन्य लोगों को प्रेरित करने और बदलने की ओर होगा।

इन जातकों के पास मनुष्यों, प्रकृति और ब्रह्मांड के बारे में मजबूत अंतर्ज्ञान और मानसिक ज्ञान भी होता है, जिसका उपयोग सकारात्मक दिशा में रचनात्मक तरीके से किया जाता है जो उन्हें मनुष्यों को ठीक करने और मानव जाति की सेवा करने में मदद करता है।

Read More »

Know About Lal Kitab | What is Lal kItab | Lal Kitab origin

Detailed Introduction: History about Lalkitab 19वीं शताब्दी के दौरान पाकिस्तान के पंजाब क्षेत्र में, पंडित गिरिधारी लाल जी शर्मा ब्रिटिश प्र...

Contact form

Name

Email *

Message *