Tuesday, 27 April 2021

Rahu in 9th house: impact in life, 7th house Rahu remedy | राहु का 7वे घर मे ज्योतिषी फल और उपाय

Rahu result in 7th house,

7 वां घर आमतौर पर विवाह, वैवाहिक शांति, जीवनसाथी के साथ संबंध, विवाह में खुशी और जीवनसाथी से अलगाव या तलाक के लिए होता है। 7 वां घर व्यापार साझेदारी के लिए भी है। वैदिक मान्यताओं के अनुसार, यदि राहु को 7 वें घर में रखा जाता है, तो इसे आमतौर पर प्रतिकूल और अशुभ माना जाता है। यह भी संभावना है कि यह घर के पहलुओं पर नकारात्मक प्रभाव लाएगा।

राहु की इस स्थिति के कारण जीवन में बाधाएं, कष्ट और एक उपयुक्त जीवनसाथी पाने में असमर्थता भी होती है, भले ही अन्य ग्रह राहु के नकारात्मक प्रभाव को कम कर रहे हों। इस घर में राहु के साथ अन्य अशुभ ग्रहों को रखने पर नकारात्मक प्रभाव और अधिक प्रबल हो जाता है।

राहु के बूरे फल को कम करने के लिए उपाय rahu remedy when rahu in 7th house

7वे घर में राहु के प्रभाव को कम करने के लिए, मंत्रों का जाप करना चाहिए, और राहु मंत्र ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः का अपने परम प्रभाव के लिए चालीस दिनो में 18000 बार जप करना चाहिए। उसके बाद प्रतिदिन राहु मंत्र का 1 माला जाप करना चाहिए। एक यंत्र रखें एक और प्रभावी उपाय है भाग्यशाली यन्त्र रखना और ग्रहों के पुरुष प्रभाव को कम करने के लिए अन्य सरल उपायों को आजमाना। ये उपाय किसी भी तरह की समस्याओं को कम करते हैं, समग्र स्थितियों में सुधार करते हैं और सौभाग्य को बढ़ाते हैं। विभिन्न ग्रहों के लिए यंत्र प्रत्येक ग्रह के सकारात्मक कंपन को आकर्षित करते हैं। राहु यंत्र राहु के लिए एक परीक्षण और एक लोकप्रिय उपाय है।

Read More »

How to practice fast | Simple and easy steps व्रत कैसे करें सरल भाषा मे


1. व्रत करने से हमारे मन दाँत होता है। अच्छे विचार की संभावना बढ़ जाती है
2 व्रत करने से हमारे पुण्य में वृद्धि होती है
3 हमारी सेहत बेहतर होती है अगर सप्ताह में एक बार किया जाए तो
4 देवता प्रसन होते है

Scientific reason for pratising fast

1. Most importantly Dr. Recommend do fast atleast once in a week, which is also called a water fast.
2. Due to fast we are able to clean our stomach that is called intoxification.

Vrat karne ki vidhi hindi mein

1 जिस देवता के लिए करना है उससे जुड़ी चीज़े इस्तेमाल।करनी है।
2 हर व्रत का अलग अलग विधि है
3 व्रत से जुड़ी किताबे या मंत्र अवश्य पढ़ें

अगले लेख में देवताओ के लिए व्रत कैसे करे हर देवता देवता का अलग अलग विधि सहित लेख आएगा कमेंट सेक्शन में बताए।जिसकी विधि चाहिए 
Read More »

Sunday, 25 April 2021

Guru Grah Brihaspati Ke Baare Janiye, Apni Kundali Se Milan Kare, what is Jupiter Planet in Astrology

What is Jupiter | guru grah | जानिए गुरु ग्रह को, ब्रहस्पति ग्रह को जानकर, अपना जीवन को बेहतर बनाये 

वैदिक ज्योतिष में बृहस्पति ग्रह का बड़ा महत्व है। यह एक शुभ ग्रह है जो लोगों को अमीर, आज्ञाकारी, बुद्धिमान, आध्यात्मिक, शिक्षित, सुसंस्कृत, उदार और उदार बनाता है। बृहस्पति ग्रह सौर मंडल के सबसे बड़े ग्रहों में से एक है।

बृहस्पति ग्रह को संक्षेप में गुरु या बृहस्पति कहा जाता है। इस विशाल ग्रह को इंसान के जीवन में एक महान भूमिका मिली है। ग्रह को अत्यधिक आध्यात्मिक कहा जाता है। यह भक्ति, पूजा और प्रार्थना का प्रतीक है।

गुरु ग्रह जन्म कुंडली में सबसे प्रभावी ग्रहों में से एक है और शुक्र ग्रह के लिए महत्वपूर्ण है। बृहस्पति बच्चों और धन से बहुत निकट से जुड़ा हुआ है। इसीलिए इसे संतान और धन का महत्व कहा जाता है।

जब बृहस्पति ग्रह मजबूत होता है, तो मूल निवासी को बच्चों, धन, धन और आध्यात्मिक सफलता का आशीर्वाद दिया जाता है। हालांकि, पीड़ित बृहस्पति हमारे जीवन पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है। मूलनिवासी बच्चों और धन से रहित हो सकता है। व्यक्ति को समाज में मान-सम्मान नहीं मिल सकता है।

बृहस्पति ग्रह की विशेषताएँ

आम तौर पर बृहस्पति ग्रह कानून पर शासन करता है। बृहस्पति मर्दाना, उग्र, संगीन, सकारात्मक, उदार, हंसमुख, लाभदायक और चरित्र से सभ्य है। यह धनु राशि में 9 वें घर और मीन राशि के 12 वें घर में धनु राशि पर शासन करता है।

गुरुवार को मुहूर्त शास्त्र में बृहस्पति को सौंपा गया है। जिन लोगों ने धनु और मीन राशि में जन्म लिया है वे स्वभाव से समर्पित, सभ्य और आध्यात्मिक हैं। चूंकि उनका सत्तारूढ़ ग्रह बृहस्पति है।

वृहस्पति के प्रभाव से पैदा हुए लोग कर्तव्यपरायण, आज्ञाकारी, ईमानदार होते हैं और लोगों के कल्याण की ओर उनका झुकाव होता है।

अंतरिक्ष में बृहस्पति

बृहस्पति ग्रह सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह है और यह सूर्य से 5 वां सबसे दूर का ग्रह है। बृहस्पति का व्यास इसके भूमध्य रेखा पर 142984 KM है। यह ब्रह्मांड में एक विशाल ग्रह है जो विभिन्न प्रकार और तरल वस्तुओं के गैसों से भरा है। बृहस्पति के पास अपना चंद्रमा है जैसे कि हमारे पास पृथ्वी के लिए चंद्रमा है। हमारे पास एक चंद्रमा है, जबकि बृहस्पति के स्वर्गीय शरीर पर 11 चंद्रमा हैं।

जैसा कि यह बड़ा, उज्ज्वल और सिहराने वाला ग्रह है, कोई भी रात में आकाश में देख सकता है। बृहस्पति ग्रह को चबूतरे पर चपटा किया गया है, जबकि यह आकार में गोल है। बृहस्पति ग्रह का घूर्णन बहुत तेज है और यह अपनी धुरी पर घूमता है जैसे पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमती है।

बृहस्पति ग्रह के पीछे की पौराणिक कहानी

बृहस्पति का मतलब अंधेरे, नीचता को निष्कासित करना है और इसके पास बहुत ज्ञान है। इसलिए, यह दक्षिणामूर्ति भगवान का प्रतिनिधित्व करता है। यह भी कहा जाता है कि गुरु ग्रह देवता के शिक्षक हैं और इसलिए उनके पास एक दिव्य शक्ति है। संस्कृत में इसे 'देवगुरु' कहा जाता है। यह मूल रूप से WISDOM का प्रतीक है।

बृहस्पति विभिन्न संस्कृति और धर्मों में अलग-अलग तरह से पूजनीय है। दुनिया भर में हिंदू लोग इसे गुरु कहते हैं। जबकि ग्रीक लोग इसे 'ZEUS' नाम देते हैं। मिस्र के लोग इसे 'अम्मोन' कहते हैं। इसे 'धक्षिनमूर्ति' कहा जाता है। व्युत्पत्ति का अर्थ है दक्षिण का अर्थ है दक्षिण और मूर्ति का अर्थ है पत्थर की छवि। इसका अर्थ है पत्थर से बना भगवान जो दक्षिण की ओर मुंह करता है। यह दक्षिण भारतीय राज्य तमिलनाडु में विशेष रूप से लोकप्रिय है। कुछ लोग इसे नारायण के रूप में बताते हैं।

बृहस्पति का ज्योतिषीय महत्व।

बृहस्पति ग्रह सबसे अधिक शुभ ग्रहों में से एक है। हिंदू भविष्यवक्ता ज्योतिष में इसका बहुत महत्व है। ग्रह को कर्क राशि में उच्च का माना जाता है जबकि मकर राशि में दुर्बल होता है।

बृहस्पति ग्रह धनु और मीन राशि का मालिक है। जब बृहस्पति ग्रह काफी मजबूत होता है जो अच्छे स्वास्थ्य, व्यक्तित्व, विलासिता, आध्यात्मिकता, शक्ति, स्थिति और अधिकार आदि जैसे अत्यधिक लाभ लाता है।

बृहस्पति ग्रह देशी जन प्रतिनिधि बनाता है। यह व्यवसाय, कैरियर, पेशे और वैवाहिक जीवन आदि में अभूतपूर्व उपलब्धि लाता है।

शनि, राहु, मंगल और सूर्य के साथ दहन जैसे ग्रहों से पीड़ित होने पर बृहस्पति ग्रह भी पुरुष हो सकता है। बीमार बृहस्पति किसी को भी दरिद्र बना सकता है। एक नियम के रूप में, बृहस्पति ईमानदार, कर्तव्यपरायण, प्यारा और स्नेही है। वह व्यक्ति बृहस्पति ग्रह से संबंधित होता है जिसे अक्सर सामाजिक कल्याण से जुड़ा हुआ देखा जाता है और वह मंदिर और ट्रस्ट का प्रमुख बन जाता है।

शुभ बृहस्पति जातक को एक अच्छा शिक्षक, शिक्षक, कोषाध्यक्ष, पुजारी, सामाजिक कार्यकर्ता बना सकता है और यह व्यक्ति को आध्यात्मिक संगठन का प्रमुख बना सकता है।

दशा और बृहस्पति की अंतरदशा

बृहस्पति ग्रह दशा प्रणाली के अनुसार 16 वर्ष तक जातक के जीवन को नियंत्रित करता है। बृहस्पति ग्रह की शक्ति और शक्ति के आधार पर 16 साल की अवधि पुरुषवादी या लाभकारी दोनों हो सकती है।

यदि बृहस्पति ग्रह अतिरंजित है, खुद पर हस्ताक्षर किए गए हैं और एक दोस्ताना संकेत में रखा गया है, तो यह निश्चित रूप से स्वास्थ्य, खुशी, सद्भाव, धन, धन, सामाजिक स्थिति, बुद्धिमान और स्वस्थ बच्चे और प्रतिष्ठा लाएगा।

हालाँकि, वही बृहस्पति हानिकारक हो सकता है जब वह मकर राशि में अशुभ हो या शनि, राहु, केतु, मंगल और सूर्य जैसे पुरुष ग्रहों से पीड़ित हो।

जब गुरु राहु और केतु के साथ मिलकर बनता है जो गुरु चांडाल योग बनाता है जो बृहस्पति की शक्ति का अवमूल्यन करता है।

गुरु चांडाल योग एक बेहद अशुभ योग है जो जातक के लिए बुरा परिणाम लाता है। यदि गुरु राहु और केतु के साथ युति करता है, तो सर्वश्रेष्ठ प्रयास के बावजूद, गुरु अच्छे परिणाम नहीं देता है।

अन्य ग्रहों के साथ बृहस्पति की युति और उसका परिणाम

बृहस्पति ग्रह जब सूर्य, चंद्रमा, मंगल, बुध, शुक्र और शनि जैसे अन्य ग्रहों के साथ संयोजन के रूप में परिणाम अलग-अलग लाता है।

चंद्रमा से केंद्र में स्थित होने पर बृहस्पति ग्रह गजकेशरी योग भी बनाता है। गजकेसरी योग जातक को धनवान, शक्तिशाली बनाता है और यह वाक्पटुता का उपहार देता है। यह मूल निवासी को एक सार्वजनिक वक्ता बनाता है।

सूर्य के साथ बृहस्पति ग्रह का संयोजन व्यक्ति को अच्छा व्यवहार, मृदुभाषी और उच्च विचार वाला बना सकता है। यह व्यक्ति को सच्चा, ईमानदार और मिलनसार भी बनाता है। इस मूल की दोस्ती लंबे समय तक चलती है।

चंद्रमा के साथ बृहस्पति ग्रह का संयोजन देशी कुलीन दिमाग और सहायक बनाता है। यह मूल निवासी को सामान्य रूप से सफल होने में भी मदद करता है।

मंगल के साथ बृहस्पति का ग्रह संयोग व्यक्ति को सक्रिय बनाता है और पुलिस विभाग या रक्षा का प्रमुख बनता है।

बुध के साथ बृहस्पति का संयोजन मूल बौद्धिक, समृद्ध और अनुसंधान को उन्मुख बनाता है।

बृहस्पति के साथ शुक्र का संयोजन व्यक्ति को समृद्ध और समृद्ध, भौतिक रूप से सफल बनाता है। जब शुक्र बृहस्पति के साथ जुड़ जाता है तो जातक कभी गरीब नहीं होता।

बृहस्पति के साथ शनि ग्रह का संयोजन मूल निवासी को जीवन में अत्यधिक सफल बनाता है। व्यक्ति अमीर हो जाता है और सभी प्रकार की सांसारिक सफलता प्राप्त करता है। शुक्र के प्रति बृहस्पति के ढुलमुल रवैये के बावजूद, यह शुभ परिणाम लाता है जब शुक्र ग्रह के साथ जुड़ता है।


जब गुरु राहु और केतु के साथ मिलकर बनता है जो गुरु चांडाल योग बनाता है जो बृहस्पति की शक्ति का अवमूल्यन करता है।

गुरु चांडाल योग -एक बेहद अशुभ योग है जो जातक के लिए बुरा परिणाम लाता है। यदि गुरु राहु और केतु के साथ युति करता है, तो सर्वश्रेष्ठ प्रयास के बावजूद, गुरु अच्छे परिणाम नहीं देता है।


Read More »

Thursday, 22 April 2021

How to enhance dev guru brihaspati, गुरु ग्रह को कैसे उच्च का बनाये, बृहस्पति को कैसे मजबूत करें

गुरु को अच्छा करने का उपाय , कैसे गुरु को मजबूत करके जीवन मे खुशियां लायी जा सकती हैं।

भारतीय ज्योतिष में 9 ग्रहों में से गुरु सबसे मुख्य ग्रह है, 
सबसे पहले गुरु से जुड़ी कुछ जरूरी जानकारी लेते है

अगर गुरु किसी की कुंडली मे उच्च का है तो वो व्यक्ति जीवन मे हर सक्सेस को देखता है सारे ऐश्वर्या उसके पास होते है। गुरु क्या है आईये जानते है। कुछ खास बातें । और उसके बाद गुरु को मजबूत करने का सटीक उपाय

What is guru planet, various life aspect related to jupiter planet and significance in life

1. गुरु हमारे भाग्य का कारक ग्रह है
2. गुरु हमारे ज्ञान का कारक ग्रह है। हम लाइफ को कैसे देखते है हमारा नज़रिया गुरु से ही है मन की सकारात्मकता गुरु ही है। पढ़ने की क्षमता भी गुरु देता है
3,  धर्म के प्रति सम्मान भी गुरु देता है 
4 सही गलत का निर्णय भी गुरु देता है 
5 आकर्षण भी देता है लोग।आपको लोग कितना पसंद करेंगे 
6 लिखने की शक्ति भी गुरु देता है परंतु बुद्ध का भी साथ होना चाहिए।
7. समाज मे सम्मान भी दिलाता है

गुरु को बेहतर करने के उपाय जिससे गुरु तुरंत बेहतर रिजल्ट देगा

1 सोना धारण करने से गुरु बेहतर होता है
2 पुखराज पहनने से
3 पीला वस्त्र धारण करने से गुरु को बल मिलता है
  
गुरु नीच अवस्था मे हो कोई भी काम नही बन रहे है 
1 तुरंत मंदिर की सेवा शुरू करिये
2 बड़ो का आशीर्वाद लीजिये
3 विष्णु जी की पूजा और व्रत आरम्भ करिये 

कुछ दान करें: कुंडली में कमजोर बृहस्पति को मजबूत करने के लिए गुरुवार को केसर या हल्दी, चना दाल और पीले कपड़े का दान गरीब लोगों को करें।

उपवास करें: गुरुवार का उपवास रखें, अधिक से अधिक लाभ पाने के लिए उपवास में कोई भी नमक लेने से परहेज करें। यह बृहस्पति उपाय स्त्री और पुरुष दोनों के लिए काम करता है लेकिन विवाह के मामले में महिला चार्ट में असाधारण परिणाम देता है, जैसे देरी, बार-बार विराम, उपयुक्त वर नहीं मिलना, विवाह की कोशिश के दौरान वैवाहिक मामलों में कोई प्रगति न होना।

पूजा करें: रुद्राभिषेकम कृपापात्र को प्रसन्न करने के लिए
माथे पर केसर / हल्दी का तिलक लगाएं, पीपल के पेड़ की पूजा करें, लंच या डिनर आदि के समय जूते पहनने से बचें।

बृहस्पति को आशीर्वाद प्राप्त करने का सही तरीका आपके शिक्षकों, गुरुओं और बुजुर्ग व्यक्तियों का सम्मान करना है, उनकी सेवा करें, उनसे आशीर्वाद लें, उन्हें खुश करें क्योंकि बृहस्पति विद्वान व्यक्तियों का प्रतिनिधित्व करते हैं।

बृहस्पति के लिए रत्न उपाय: आप अपनी उंगली में या गले में लॉकेट के रूप में कीमती पीले नीलम रत्न या अर्ध कीमती पीला पुखराज पहन सकते हैं। यह आपके करियर में वृद्धि, व्यवसाय, पेशे, शिक्षा, प्रतियोगी परीक्षा में सफलता, विवाह और प्रेम के मामले में सामंजस्य बनाए रखने, जीवनसाथी के साथ स्नेह बढ़ाएगा। 


Read More »

Sunday, 18 April 2021

How to enhance Venus planet | शुक्र ग्रह को कैसे मजबूत करें | शुक्र ग्रह के ज्योतिषी उपाय |

 shukra grah कैसे मजबूत करें शुक्र ग्रह हमारे जीवन बहूत अहम है 
In this post you got remedies and how to improve shukra degree in kundali and power to Venus grah in order to attract all luxurious in life.
शुक्र हैं तो सबकुछ है "
शुक्र ग्रह को अच्छा करने के लिए सबसे शुक्र ग्रह को समझना जरूरी है। शुक्र ग्रह का ज्योतिष में महत्व शुक्र्स ग्रह को कैसे बेहतर कर सकते है आईये जानते है वो शुक्र ग्रह के वो उपाय जिसे शुक्र की डिग्री कुंडली में मजबूत।हो जायेगी

Venus remedy in jyotish 
शुक्र ग्रह के उपाय 
1 पत्नी का सम्मान करें
2 पत्नी को खुश रखे
3 महिला का हेल्प करे 
4 सफेद चीज़ों का सेवन करें
5 बहोत खराब हो तो इस चीज़ों का दान करे
6 परफ्यूम का इस्तेमाल करे
 इतने से उपाय करने से शुक्र ग्रह ठीक होने लगेगा,  इसके बाद भी रिजल्ट न आये तो ज्योतिषी सलाह ले। उनके कहने अनुसार उपाय करें


नोट ये जनरल कंडीशन के लिए है।कृपा पर्सनल चार्ट का अध्यन करके ही उपाय करें।

जय माता दी
Read More »

what is Venus planet, jyotish shukra grah kya hain, Venus related life aspect

शुक्र ग्रह हमारे जीवन बहुत महत्व रखता , शुक्र ग्रह से ही हमारे जीवन के सुख समृद्धि ऐष्वर्य आता हैं। आईये जानते है शुक्र ग्रह है क्या 

Shukra planet is most important planet in indian jyotish, shukra grah in jyotish, related thing to Venus planet, remedy related to Venus planet


1. शुक्र हमारे सुख का कारक ग्रह है

2। हमारी लाइफ में जो लक्सरी चीज़े है उनका कारक है

3 वाहन हमारे पास कितना है या कितना महँगा है इसका कारक भी शुक्र ग्रह है

4 पत्नी का कारक है शुक्र 

5 सीमेन का कारक भी शुक्र है

6 सुन्दरता का कारक भी शुक्र 

7 ज्ञान का कारक भी है कही कही 

8 पर्सनालिटी का कारक भी है शुक्र



Read More »

Know About Lal Kitab | What is Lal kItab | Lal Kitab origin

Detailed Introduction: History about Lalkitab 19वीं शताब्दी के दौरान पाकिस्तान के पंजाब क्षेत्र में, पंडित गिरिधारी लाल जी शर्मा ब्रिटिश प्र...

Contact form

Name

Email *

Message *