Monday, 7 June 2021

Result of 9 different Planets in 7th House: Marriage, Husband, Wife | 7वे घर से जानिए जीवन साथी के बारे में 9 अलग अलग ग्रह का 7वे घर मे फल

Different Planets in 7th house

All Planets result in 7th house in terms of marriage, husband for female chart, wife for male chart: 7th house marriage surya,फ़ mangal, chandra, budh, brihaspati, shukra grah, shani, rahu, ketu.

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार किसी भी व्यक्ति के जीवन साथी के बारे में विस्तृत जानकारी मिल सकती है। ऐसा नहीं है कि केवल एक व्यक्ति की कुंडली ही उसकी पत्नी के बारे में या एक महिला की कुंडली के बारे में उसके पति के बारे में सब कुछ बता सकती है, लेकिन एक मोटा अनुमान लगाया जा सकता है। यह कम से कम स्पष्ट है कि जातक अपने जीवनसाथी पर कैसे भरोसा करेगा।

कुंडली मिलान मेलपाक विवाह वर वधू लड़का लड़की बंदूक मिलन अष्टकूट बंदूक मिलन मंगल दोष पति, पत्नी, मेलपाक, विवाह, विवाह, विवाह, जीवनसाथी, पति कैसे होगा, पत्नी कैसे होगी, सर्वश्रेष्ठ घर, कुंडली में विवाह, पति पत्नी संबंध,

कुंडली के सप्तम भाव में ग्रहों का प्रभाव। कुंडली के सातवें भाव में सभी ग्रहों का प्रभाव

ज्योतिष शास्त्र में इसके लिए श्रेष्ठ भाव देखा जाता है। सप्तम भाव ही बताता है कि पत्नी का स्वभाव कैसा होगा, जातक का पत्नी के साथ कैसा स्वभाव होगा, शारीरिक विशेषताओं और विशेषताओं के बारे में भी कुछ उथली जानकारी दी जा सकती है। हालांकि विवाह के लिए पुण्य मिलान और मंगल दोष मुख्य रूप से मेलापाक यानी नक्षत्र के आधार पर देखा जाता है, लेकिन सप्तम भाव को ध्यान में रखा जाए तो सबसे अच्छा विकल्प बनाया जा सकता है।

इस लेख में हम जानेंगे कि पारंपरिक भारतीय ज्योतिष के अनुसार यदि कोई ग्रह श्रेष्ठ भाव में हो तो जातक के वैवाहिक जीवन पर उसका क्या प्रभाव पड़ता है।

सूर्य सप्तम भाव में surya in 7th house marriage

सप्तम भाव में सूर्य

स्त्रीभिहघाट परिभव: मैज मोथ्स।

(आचार्य वराहमिहिर)


यदि सूर्य लग्न से सप्तम भाव में स्थित हो तो पुरुष को स्त्री का तिरस्कार मिलता है। यद्यपि सूत्र के अनुसार यह केवल पुरुष के लिए ही कहा गया है, लेकिन देखा जाता है कि यदि स्त्री की कुंडली में भी सर्वश्रेष्ठ का सूर्य हो तो स्त्री को अपने पति का अपमान सहना पड़ता है। ऐसे जातकों के पति अक्सर भीड़-भाड़ वाली सभा में या बाजार में भी जातकों को अपमानित करते हैं। ऐसा नहीं है कि उनका अपमान करने का इरादा है, लेकिन ज्यादातर समय ऐसी स्थितियां बन जाती हैं जिनका अपमान या अपमान होता है।

चंद्रमा सप्तम भाव में आसानी से वश में हो जाता है

सप्तम भाव में चंद्रमा chandra in 7th house marriage

सौम्य ध्रिस्य: सुखित: सुशीरीर: कामसायुतोडुने।

दैन्यरुगदित शरीर: कृष्ण संजयते शशिनी।

- (चमत्कार चिंतामणि)


यदि सप्तम भाव में चन्द्रमा हो तो नम्रता से वश में रहने वाला व्यक्ति सुखी, सुन्दर और कामुक होता है। यदि यह चंद्रमा शक्तिहीन हो तो व्यक्ति दीन और रोगी होता है।


सप्तम भाव में कठोर जीवनसाथी देता है मंगल

सप्तम भाव में मंगल mangal in seventh house marriage

महिला दारमारनं निश्चेवनम नीची संगम संघ।

कुजेतिसुस्तानी कुशोर्ध्व कुचा।

- (पराशर)


सप्तम मंगल की स्थिति अक्सर आचार्यों द्वारा बताई जाती है कि सप्तम भाव में भूम के कारण पत्नी की मृत्यु होती है। कमनल नीच महिलाओं को शांत करती है। महिला के स्तन उन्नत और कठिन होते हैं। जातक प्रायः शारीरिक, दुर्बल, रोगी, शत्रुओं से घिरा रहता है और चिंतित रहता है।


सुंदर स्त्री बुध को सातवें भाव में देती है

सप्तम भाव में बुध budh in 7th house marriage result

बुढे दरगरण गतवती याद यस्य जाने जाने।

तवश्यं शैथिलम् कुसुमाशरर्गोत्स्विधौ..

मृगक्षिणं भर्तु

तड़ा कांतिष्चपंचक कनक द्रिसिमोहजानी।

- (जातक पारिजात)


जिस जातक के जन्म के समय सप्तम भाव में बुध होता है वह बहुत ही सुन्दर और मृगनयनी स्त्री का स्वामी होता है। वह निश्चित रूप से सेक्स में आराम से है। उसका वीर्य कमजोर है।


विदुषी अर्धांगिनी सप्तम भाव में बृहस्पति (गुरु) देती है

सप्तम भाव में बृहस्पति guru in 7th house marriage impact

शास्त्रभयसिनम्र चित्तो विनैथा कांतवितितात्यायसंजत सौधय्या:

मंत्री मूर्ति: कवि प्रसूतो जयवभावे देवदेवाधिदेव।


जन्म के समय जिस व्यक्ति का जन्म सप्तम भाव में होता है वह स्वभाव से विनम्र होता है। वह एक बहुत लोकप्रिय और चुम्बकित व्यक्ति के स्वामी हैं, उनका भारतीय सही मायने में अर्धांगिनी साबित होता है और विद्वान होता है। इससे स्त्री का सुख और धन की प्राप्ति होती है। यह अच्छे सलाहकार और कविता लेखक हैं।

सप्तम भाव में शुक्र देव को आकर्षित करता है

सप्तम भाव में शुक्र shukra in 7th house result on marriage

भावेत किन्नर: किन्नरानंच मधे

कामिनी खुद और विदेशी रति: स्यात।

यदा शुक्रनामा गत शुक्रभूमु।

- (चमत्कार चिंतामणि)

जिस जातक के जन्म के समय शुक्र सप्तम होता है, उसकी स्त्री सफेद रंग में श्रेष्ठ होती है। जातक को सुखी स्त्री मिलती है, गीत विद्या में पारंगत होता है, वाहनों में कामुक और परजीवियों में लिप्त होता है, शुक्र विवाह का कारक ग्रह है। सिद्धांत के अनुसार यदि ग्रह कारक भाव के अंतर्गत हो तो स्थिति सामान्य नहीं होने देती इसलिए सप्तम भाव में स्थित शुक्र वैवाहिक जीवन में कुछ अनियमितताएं पैदा करता है।

शनि सप्तम भाव को उदास करता है shani in 7th house impact on marriage and both partners

सप्तम भाव में शनि

शरीर कांपना: कृषककलात्रा: संभोग की एक वेश्या, बहुत दुख की बात है।

ऊँचे-ऊँचे सिर वाले अनेक वैश्या कुज्युतेशिशन चुनवान:

-(भृगु संहिता)


सप्तम भाव में शनि का वास किसी भी तरह से शुभ या सुखद नहीं कहा जा सकता। सप्तम भाव में शनि होने से जातक का शरीर ख़राब रहता है। (दोष रोग को संदर्भित करता है) उसकी पत्नी गुस्से में है। जातक वेश्या और दुखी होता है। यदि शनि उच्च भाव का हो या स्वाभिमानी हो तो जातक कई स्त्रियों का सेवन करता है। यदि शनि भूमि से भरा हो तो स्त्री बहुत कामुक होती है। उसने एक बड़ी उम्र की महिला से शादी की है।

Rahu in 7th house marriage result

सप्तम भाव में राहु बनाता है दो विवाहों की संभावना

सप्तम भाव में राहु 

प्रवासी पिदानं चावस्त्रिकाष्टम पवनोत्थारुक।

कटि वशिष्ठ जनुभयान स्याहिकेये च सप्तमे।

- (भृगु सूत्र)

जिस व्यक्ति के जन्म समय में राहु सप्तम होता है उसके दो विवाह होते हैं। पहली स्त्री की मृत्यु हो जाती है, दूसरी स्त्री को मसूढ़ों का रोग, प्रदर आदि रोग होता है और जातक क्रोधी होता है, जो दूसरों का अहित करता है, वह व्यभिचारी होता है और व्यभिचारिणी के सम्बन्ध से असंतुष्ट होता है।

Ketu in 7th house marriage

सप्तम भाव में केतु जातक का अपमान करता है

सप्तम भाव में केतु

सूर्य के दो बेड़ियां, मानवभो वातधिरोगः।

देवता की कृपा में विश्वास मत करो, भगवान वैरिवर्गता भावेत मनवनम्।

- (भव कौतुहल)

यदि केतु सप्तम भाव में हो तो जातक का अपमान होता है। स्त्रियों को सुख नहीं मिलता, स्त्रियों, पुत्रों आदि का क्लेश होता है। खर्चे में वृद्धि होती है। रजा के शत्रुओं का भय और जल का भय बना रहता है। वह व्यक्ति व्यभिचारी महिलाओं में लिप्त है।

No comments:

Post a Comment

Know About Lal Kitab | What is Lal kItab | Lal Kitab origin

Detailed Introduction: History about Lalkitab 19वीं शताब्दी के दौरान पाकिस्तान के पंजाब क्षेत्र में, पंडित गिरिधारी लाल जी शर्मा ब्रिटिश प्र...

Contact form

Name

Email *

Message *